मैं 1 रात पापा के संग सो गई ।आधीरात को ?

पापा हमलोग से क्या चाहते थे ?

मेरी मम्मी ने मजबूर होकर पापा की दूसरी शादी करवा दी। महीने के 15 दिन पापा मम्मी के साथ रहते। और 15 दिन अपने दूसरी पत्नी के साथ रहते थे। लेकिन जो 15 दिन मम्मी पापा के साथ गुजारते, मम्मी की हालत बुरी हो जाती। और मम्मी कुछ नहीं बोलती थी, ये राज़ जानने के लिए 1 दिन मै मम्मी की जगह कमरे में चादर ओढ़कर सो गयी। फिर जो पापा ने मेरे साथ किया राम॥

पापा का  बर्ताव क्यों बदल गया?

मेरे पापा हर हफ्ते दिल्ली चले जाते थे, हम वापस लौटते तो उनका बर्ताव बहुत अजीब होता था। वो मेरी मम्मी को मनहूस कहते थे कि जब से तुम से मेरी शादी हुई है, मेरी जिंदगी का सुकून भंग हो चुका है। मैं तुमसे शादी करके बहुत पछता रहा हूँ। मेरी माँ ने तुम्हें मेरे सर पर छोड़ करके मेरी जिंदगी खराब कर दी है। मैं यह सब रोज़ सुनती थी। मुझे मम्मी से बहुत हमदर्दी होती थीं, मगर मैं कुछ बोल भी नही सकती थी। हम छह बहनें थे।

Woman shock HD wallpaper | Wallpaper Flare

 

पापा को अपना परिवार बढ़ाने के लिए बेटा चाहिए था, और मेरी माँ अब कोई भी बच्चा पैदा नहीं कर सकती थी। जब तक मेरी दादी जिन्दा थी, तब तक तो उन्होंने पापा को दूसरी शादी करने से रोक रखा था। मगर दादी के मरते ही पापा ने ताने देना शुरू कर दिया। मोहल्ले से कोई भी औरत जब मम्मी के पास आती तो मम्मी को कहती की तुम इस आदमी से डिवोर्स दे दो। आखिर कब तक इस तरह जिंदगी बिताओगी? मम्मी उनको कहती की मैं इस उम्र में डिवोर्स कैसे लेलू ,

और मेरी छह बच्चियां हैं और चार तो बिल्कुल जवान है। मैं उनकी शादी करनी चाहती हूँ ताकि वह जल्द अपने घर की हो जाए और मैं सुकून से अपने पती से अलग भी हो जाऊं तो कोई परेशानी नहीं। मम्मी हर रोज़ कोई ना कोई रिश्ता देखती है लेकिन उनको पसंद नहीं आया

 पापा हमलोग से  नफरत क्यों करते थे,,?

पापा तो हम छह बेटियों से नफरत करते थे, हम पापा के प्यार के लिए तरस गऐ थे, मगर पापा तो भूल गए थे की हम उनकी औलाद है। 1 दिन पापा जब दिल्ली से वापस आए तो उन्होंने मम्मी के सामने शर्त रख दी कि अगर तुम्हें इस घर में रहना है तो मेरी दूसरी शादी करनी होगी। यह बात सुनकर मेरी मम्मी कि होश उड़ गए, और हम बहनें भी परेशान हो गऐ। अगर पापा ने दूसरी शादी कर ली तो फिर वो जल्दी हमें घर से निकाल देंगे। मम्मी उनकी शादी नहीं करना चाहती थी,

Pin on ahqh

मगर पापा ने कहा कि वह उनको डिवोर्स दे देंगे। फिर वो जहा मर्जी जाये और अपनी जायदाद से भी हमें अलग कर देंगे। मम्मी ने कुछ सोचकर उनकी दूसरी शादी करवाने के लिए हाँ कर दी। मम्मी की चाचा की बेटी जवान थी। मम्मी के दिल में ख्याल आया की मैं रिया की शादी इससे करवा देती हूँ। वो मेरी चाचा की बेटी है। जैसे मैं कहूगी वो वैसे ही मेरे घर में रहेगी।

 

मम्मी ने जब अपनी  शऊतन की  तस्वीर देखी तो वो चौंक गई ॥ क्योंकि वो ..

मम्मी ने रीया से शादी की बात जब पापा से की। तो वो गुस्से से उखड़ गए कि मुझे शादी दिल्ली करनी है। और मम्मी ने जब लड़की की तस्वीर देखी तो उनके होश उड़ गए। क्योंकि वो तो माँ की अपनी…।मम्मी भी पापा की दूसरी शादी से मान गई, और पापा का दूसरा विवाह करवा दिया। पापा ने हमारे घर के सामने वाला घर खरीद कर वहाँ अपनी दूसरी बीवी को रख लिया। हम सब बहनों को मम्मी ने सख़्ती से उस घर में जाने से मना किया था कि कुछ भी हो जाये हम में से कोई भी उस घर में नहीं जाएगा।

Indian Wedding Photos, Download The BEST Free Indian Wedding Stock Photos & HD Images

हमें भी पापा का शादी करना अच्छा नहीं लगा था। जो भी था वो हमारी सौतेली माँ थी। हमें अपनी माँ से ज्यादा प्यारी तो नहीं हो सकती थी। पापा ने जिम्मेदारी निभाना शुरू कर दीया। वह जल्द से जल्द मेरी दो बड़ी बहनों की शादी करना चाहते थे। उन्होंने मम्मी से भी इसके बारे मे बात कर रखी थी। मम्मी तो पापा का बदलता रूप देखकर ही बहुत खुश हो गई थी। पापा 15 दिन हमारी तरफ रहते और 15 दिन सौतेली माँ की तरफ। जिंस दिन पापा मम्मी के साथ रहते मम्मी की हालत खराब हो जाती।

 

वह जब भी सुबह उठती तो बहुत परेशान रहती या फिर उनको चक्कर आना शुरू हो जाता था। हम सब बहने बहुत परेशान रहती थी। पापा की तो बदलते बर्ताव का ज़रा भी अंदाजा नहीं होता था। मगर मम्मी के अलावा हमारा था ही कौन, जो हमें सहारा देता? मैं रोज़ इसके बारे मे सोचती मुझे पापा से नफरत सी हो गई थी, वह मेरी माँ के जब भी करीब आते उनको तकलीफ देते थे।

मैं  1 दिन राज़ जानने के लिये मैं मम्मी की बड़ी सी चादर ओढ़कर मम्मी के कमरे में चली गई। उस रोज़ मम्मी किसी के मृत्यु पर गई हुई थी। पापा को इस बारे में नहीं पता था। वो 15 दिन गुजारने के लिए घर आ गए। मैं माँ की चादर से चेहरा छुपाकर मम्मी के बिस्तर पर लेट गयी। मुझे डर लग रहा था मगर मुझे राज जानना था। इसलिए चुप चाप से मम्मी के बिस्तर पर लेट गई थी। जब पापा कमरे में आये और बत्ती जलाये। तो मैंने अपना जिस्म समेट लिया। जब मेरा जिस्म ज़रा भी न हिला तो उन्होंने लाइट बंद कर दी। मैंने सर से पैर तक चादर ले रखी थी, मगर जब पापा बिस्तर पर आये, मेरे होश उड़ गए, क्योंकि पापा तों

मेरा नाम रूचिता हैं। हम छह बहने थी। मेरे भाई का बचपन में ही मृत्यु हो गया था। पापा को बेटा की चाहत थी मगर उनको मम्मी दोबारा बेटा ना दे सकी। जब तक मेरी दादी जिन्दा थी, पापा मम्मी से बहुत अच्छा बर्ताव करते थे क्योंकि मम्मी दादी की भांजी थी। एक के बाद दुसरी बेटियों की पैदा होने पर दादी गुस्सा सी थी। मगर फिर भी मम्मी से बहुत मोहब्बत करती थी। जब कभी पापा उनके सामने डिवोर्स की बात करते तो दादी गुस्सा हो जाती। मगर दादी के मरते ही पापा ने दूसरी शादी की के लिए कहा।

 

मम्मी उनकी इच्छा पूरी नहीं करना चाहती थी, लेकिन पापा ने जब शर्त रखी की अगर तुमने मेरी शादी ना करवाई तो मैं तुम्हें डिवोर्स दे दूंगा। पापा मम्मी को खुद नहीं छोड़ सकते थे, क्योंकि मम्मी की शादी रिस्तेदारी मे हुई थी। पापा की बहन मेरे मामा से विहाई थी, जिसके वजह से पापा को डर था कि मेरा गलत कदम कहीं उनकी बहन का घर ना बर्बाद करदे। इसीलिए वो मम्मी के जरिए विवाह करना चाहते थे ताकि सबको लगे कि मम्मी ने खुशी खुशी बेटे के लिए दूसरी शादी की है। पापा हर हफ्ते दिल्ली जाते थे।

जब उनके जाने का वक्त होता तो सभी बहुत खुश होते थे, मगर जब वापस आते। तो पापा मम्मी को और हमें बहुत गालियाँ देते थे। मम्मी घर के माहौल से बहुत तंग आ चुकी थी। कई बार उन्होंने मेरी बड़ी बहन से बात कि। मैं तुम्हारे बाप का बर्ताव अपने भाई को बताती हूँ, उसकी बहन मेरे घर में ऐश करे और मैं यहाँ गालिया सुनो। जब कभी मम्मी मामा को फ़ोन करती है तो बुआ बातचीत करके रख देती कि वह घर पर नहीं है। मम्मी को मामा से भी अब उम्मीद नहीं थी।

ये भी पढे : अपने “कैसे मैं अपने गे पति को मर्द बना दिया ?

उनको लगता था जो भाई पलटकर बहन का हाल नहीं पूछ सका वो क्या बहन की मदद करेगा? पापा ने मम्मी को सोचने के लिए 2 दिन दिए थे, जिसमें मम्मी को उनका विवाह करवाना था। दूसरे दिन मम्मी उनकी शादी की हामी भर चुकी थी। मैंने उनसे बहुत बार पूछा कि आप शादी किस्से करवाएंगी तो वह चुप रही। अगली सुबह उन्होंने पापा को तस्वीर दिखाई तो पापा ने शादी करने से मना कर दिया क्योंकि मम्मी जिससे शादी करवाना चाहती थी वो कोई और नहीं बल्कि उनके चाचा की बेटी थी। जिसे डिवोर्स मिल चूका था। जो कई सालों से घर पर थीं। मम्मी की मर्जी थी, इस तरह घर की बात घर में रहेंगी और मेरी बेटियों को भी उनको हक मिल जाएगा।

मैं सारी शर्त मान कर चाचा की बेटी को अपनी सौतन बना लूंगी, मगर पापा को ये बात पसंद नहीं आई

मेरी शादी मेरी मर्जी से होगा ॥ नहीं तो ..

उन्होंने उस जगह मना कर दिया और कहने लगे कि मैं एक लड़की को पसंद करता हूँ, वो दिल्ली की रहने वाली है, और कई बार हम एक दूसरे से मिल चूके हैं। तुम्हे मेरी शादी करनी है, तो फिर वही कर दो। और खबरदार जो अपने भाई को कुछ भी बताया, और तुम सबको यही कहोगी कि बेटे के लिए सिर्फ तुम यह सब कर रही हो। मम्मी पापा के गुस्से को जानती थी तभी पापा को चुप कर दी

और सबकुछ छुपाऐ रखने के लिए कर दी। पापा कहने लगे कल मैं दिल्ली जाऊंगा और वहीं से निकाह करके उसे घर ले आऊंगा। इस घर में उसे कोई भी तकलीफ नहीं होनी चाहिए। मैंने उसके रहने के लिए घर खरीद लिया है। वो अलग रहेगी, मगर उसकी जिम्मेदारी तुम पर है। और अपनी बेटियों का साया उस पर ना पड़ने देना। मैं नहीं चाहता कि वह भी बेटी पैदा करें। मम्मी ने कहा कि एक बार मुझे तस्वीर तो दिखाओ, लड़की कौन है?खानदानी भी है

600+ Free Indian Wedding & Indian Images - Pixabay

या बस ऐसे ही किसी को भी अपने खानदान में शामिल कर लोगे? पापा ने जब मोबाइल से उसकी तस्वीर मम्मी को दिखाई तो मम्मी के होश उड़ गए। उनके कदमों तले से जमीन निकल गई क्योंकि वो तो मेरी माँ की। पापा अगले दिन दूसरा विवाह करने दिल्ली चले गए थे। ये समय मेरी माँ पर आफत बनकर टूट पड़ा था। वो हर समय रोती रहती थी, साथ ही साथ अपने पापा को बुरा भला कहती थी। मैं हैरान थी कि मम्मी नाना को क्यों बुरा भला कहती है? आखिर उन्होंने क्या किया है?

दूसरा शादी करके पापा घर आ चूके थे। मम्मी ने हमें दूसरी मम्मी से मिलने से मना कर दिया। और पहले ही हमारी माँ बहुत रोती थी इसलिए हमने उनकी बात मान ली। मम्मी रोज़ सुबह का नाश्ता तैयार करके उनके घर भेज देती थी। मम्मी खुद भी उनसे मिलने नहीं जाती थी। और उनका ख्याल जरूर रखती थी। कई बार मेरा दिल किया कि मैं छुपकर अपनी दूसरी मम्मी से मिलकर आती हूँ, मगर मेरी बहन को ना जाने कैसे मेरे इरादों का पता चल जाता था। वह मुझे डांट देती और कहती,

रूचिता तुम ऐसा कोई काम नहीं करोगे जिससे मम्मी को तकलीफ हो? इसलिए मैं यह इरादा बदल चुकी थी।

ये कैसा परंपरा हैं “की पापा 15 दिन  मम्मी के साथ  और 15 दिन अपने… ?

अब हमारे घर का माहौल अजीब हो चुका था। 15 दिन पापा दूसरी माँ की तरफ रहते थे, जबकि दूसरे 15 दिन हमारी तरफ रहते थे।पापा को तो अपनी जिम्मेदारी का भी अहसास हो चुका था। वो हमारे खर्चा उठाने के लिए तैयार थे लेकिन मेरी माँ कभी भी उनके घर नहीं गयी थी।1 दिन मै पडोसी के घर जाने लगी तो मुझे दूसरी माँ के घर से बच्चों के रोने की आवाज आ रही थी।

मैं बच्चों की आवाज़ सुनकर बहुत परेशान हो गई। मम्मी के बच्चे तो हैं ही नहीं। फिर आवाजें कहाँ से आ रही है यही सोचकर मैंने उनके घर पर दस्तक दी। लेकिन दरवाजा खुलने पर पापा थे। जब उन्होंने मुझे देखा तो उन्होंने मुझे डांट दिया और कहा कि चली जाओ। आज के बाद तुम अगर मुझे इस तरफ नजर भी आई, तो मैं तुम्हारा बहुत बुरा हाल कर दूंगा। पापा की डांट सुनते ही मैं वहाँ से भाग गई। मम्मी बड़ी बहन के लिए रिश्ता देख रही थी।

उनको इस सिलसिले में एक लड़का भी पसंद आ चुका था। जब उन्होंने पापा से इस बारे बात की तो उन्होंने कहा ठीक है, अगर तुम्हें पसंद है और वो लोग भी बेटी को पसंद कर चुकी है तो मुझे कोई ऐतराज नहीं। लड़के को अपने शहर जाना था, इसलिए वो जल्द शादी करना चाहते थे। दीदी को भी इस शादी पर कोई ऐतराज नहीं था। उन्हें लड़का पसंद आ गया। पापा को भी लड़का पसंद था, इसलिए उन्होंने जल्दी से शादी कर दी। दो माह के बाद मेरी दी की शादी हो गयी।

Desi Wedding Stock Photo - Download Image Now - Wedding, Pakistan, Married - iStock

मैं सौतेली माँ को बहुत अच्छा समझ रही थी कि उनके आते ही मेरी एक बहन अपने घर की हो गई। जबकि मेरी माँ मुझसे बहुत ज्यादा गुस्सा करती थी। जब वह 15 दिन मम्मी के पास रहने के लिए आते। तो मेरी मम्मी की हालत गंभीर हो जाती थी। वो हमें बीमार लगती थी। मैने मम्मी से पूछा कि मै आपको किसी अच्छे डॉक्टर के पास ले जाऊ, कही आपको कोई बिमारी ना हो लेकिन माँ मुझे डांट देती। और कहती तुम सिर्फ पढ़ाई पर ध्यान दिया करो, तुम अपने काम से काम रखो।

मुझे कभी कभी महसूस होता है जैसे मैं माँ की सौतेली बेटी हूँ क्योंकि अब वो भी अक्सर मुझसे बहुत ज्यादा बुरे तरीके से बात करती थी। और मम्मी मुझे डांट दिया करती थी। जब दीदी का रिश्ता हुआ तो मैंने मम्मी से कहा मम्मा आपको लड़के वालो को सब बता देना चाहिए कि आपके पति ने दूसरी शादी कर रखी है। अगर कल को दीदी के घरवालों को पता चला कि पापा ने दूसरी शादी की है तो वो दीदी को बुरा भला कहेंगे।

मैंने इतनी बात की थी कि मम्मी तो मेरे पीछे पड़ गई, कहने लगी की तुझे शर्म नहीं आती अपनी बहन का बसा हुआ घर बर्बाद करना चाहती है? मैं मम्मी की हालत देखकर बहुत ज्यादा परेशान हो गयी थी, मुझे डर लगता था कि मेरी मम्मी को कोई बिमारी ना हो। अगर उन्हें कुछ हो गया तो हमारा इस दुनिया में है ही कौन? पापा को दूसरी बीवी से फुर्सत नहीं मिलती वो हमारे बारे में क्या सोचेंगे?

आज रात मम्मी की जगह मैं सो जाऊँगी ” की पापा क्या करते हैं ” मम्मी .. ?

मैंने राज़ जानने के लिए अब यह फैसला कर लिया था कि अब जब भी पापा मम्मी की तरफ रहने के लिए आएँगे तो मैं मम्मी की जगह कमरे में चली जाऊँगी। इसी महीने ऐसा हुआ कि माँ की रिश्ते मे किसी का मृत्यु हो गयी।

मम्मी पापा को बिना बताए वहा पर चली गयी। जब पापा रहने के लिए आए तो मैंने उन्हें कुछ भी नहीं बताया। उस समय मेरी बहन घर पर नहीं थी, मैं अकेली घर पर थी। मैंने पापा से कहा मम्मी खाना बना रही है, आप यहाँ बैठिए। थोड़ी देर में मम्मी आ जाती है। मैं अंदर से डर रही थी, मैं जानती थी कि मैंने पापा से झूठ बोला है। अगर मेरा झूठ पकड़ा गया, तो पापा और मम्मी मेरे साथ बहुत बुरा करेंगे। मैंने बड़ी सी चादर ओढ़ ली और चादर ओढ़ कर माँ के कमरे में जाकर लेट गयी।

30,000+ Sleep Girl Pictures | Download Free Images on Unsplash

मैंने यह सारी बात अपनी छोटी बहन को बता रखी थी, कि अगर कहीं से किसी को मुझ पर शक हुआ तो तुम सब कुछ संभाल लेना। छोटी बहन ने जब पापा को कमरे में भेजा, तो मैंने सिर से पांव तक चादर ले रखी थी। जब उन्होंने कमरे की लाइट ऑन की तो मैं बिल्कुल सिमट गई। मेरे जिस्म ज़रा भी न हिला तब पापा ने बत्ती बुझा दी और बिस्तर के करीब आ गए और मम्मी से माफी मांगने लगे। मैं पापा को माफी मांगते देख कर बहुत डर गई, और परेशान थी।

कि पापा मम्मी से माफी क्यों मांग रहे हैं? अब वो माफी मांगते ही रोना शुरू कर दिये थे। मोहिनी मुझे माफ़ कर दो, मैं जानता हूँ मैंने तुम्हारे साथ बहुत गलत किया है। मेरी तो ये सब सुनकर ही होश उड़ गए थे।

मैं बाल -बाल बच गई। नहीं तो पापा  .. ?

अब मुझे बिल्कुल भी समझ नहीं आ रहा था कि मुझे क्या जवाब देना है। अगर मैं ज़रा भी कुछ जवाब देती तो मैं पकड़ी जाउंगी और अगर मैं चुप रही तो पापा को शक हो जायेगा, तभी मुझे याद आया कि। कमरे में आने से पहले मेरी छोटी बहन ने मुझे बताया था कि मैं अपने साथ मोबाइल ले जाऊ। अगर ज़रा भी परेशानी हुई तो मैं पापा की नजरों से बचकर एक मैसेज उसे कर दूँ, जिससे वह सब कुछ संभाल लेगी।मैंने उसकी बात मान लिया और पापा की नजरों से बचकर एक मैसेज उसे कर दिया।

Shocked Photos, Download The BEST Free Shocked Stock Photos & HD Images

 

मेरा मैसेज पहुंचते ही छोटी बहन ने रोना और चीखना शुरू कर दिया। जब उसकी आवाज़ पापा के कानों से टकराई, वो बाहर चले गए। छोटी बहन कहने लगी कि मैंने घर में सांप देखा है, मैं डर गई थी इसीलिए चीखना शुरू कर दिया था। पापा जल्दी से बाहर आए। मैं भी हर बात समझने के लिए बाहर आ गई थी कि अब मुझे क्या करना है? तब तक मम्मी भी वापस आ चुकी थी। पापा मम्मी को देखकर बहुत ज्यादा परेशान हो गये थे। पापा मम्मी से कहने लगे कि तुम कहाँ पर गयी थी, अभी तो तुम कमरे में थी।

मम्मी कुछ बोलने वाली थी जब उनकी नजर मेरे चेहरे पर पड़ी तो वह चुप हो गई। मम्मी ने पापा को दूसरी माँ की तरफ भेज दिया और मुझे लेकर कमरे में आ गई। मेरी छोटी बहन भी मेरे पीछे ही थी। बड़ी बहन तो मामा के यहा शादी पर गई हुई थी। हम सबको भी 2 दिन के बाद चले जाना था, लेकिन दोनों पहले ही चली गयी थी।

मम्मी आप क्या छुपा रहे थे  .. ? मैं अब सब ,,

मुझे एक कमरे में लाकर मम्मी ने मारना शुरू कर दिया और कहा कि तुमने ऐसा क्या किया है? मुझे सच बताओ, झूठ बोलने की कोशिश की तो मैं तुम्हारे साथ बहुत बुरा करूँगी। मैं माँ के सामने खड़ी थी और कहा मम्मी, आप और पापा हमसे क्या छुपा रहे हैं? आज मैं आपके कमरे में गई तो पापा बुरी तरह रो रहे थे। और आप से माफी मांग रहे थे। ऐसा क्या हुआ है? मैं आपकी बेटी हूँ, तो मम्मी मुझे एक कोने में लेकर रोना शुरू हो गई। कहने लगी कि तुम्हारे पापा ने दूसरी शादी नहीं की है।

ये खबर सुनते ही हम दोनों बहनों के होश उड़ गए। तो फिर आप क्यों ये सब कहती रही कि पापा ने दूसरी शादी की है और वो 15 दिन उस घर में रहते हैं तो मम्मी कहने लगी तुम्हारे पापा ने कोई शादी नहीं की थी, ये सब कुछ झूठ था। उस घर में कोई और नहीं बल्कि तुम लोगों की सगी बुआ रहती है। मैं हैरान थी मेरी बुआ भी तो सिर्फ एक ही थी पर दूसरी कहाँ से आ गई? मैं मम्मी से पूछ रही थी तो कहने लगी की तुम्हारी दो बुआ थी, तुम्हारी एक बुआ ने घर से भागकर शादी कर ली थी।

Shocked Woman Images - Free Download on Freepik

उसके पती ने जल्दी उसको छोड़ दिया। अब वो बिलकुल पागल हो चुकी है। लोगो की नजर से बचने के लिए तुम्हारे पापा ने तुम्हारी बुआ को अपने साथ रखना चाहा, अगर वो सबके सामने अपने उसे घर ले आते है तो लोग तरह तरह के सवाल कारते। ये घर से भाग गई थी। अब उसके तीन छोटे छोटे बच्चे हैं। फिर मैंने और तुम्हारे पापा ने ये खेल खेला की तुम्हारे पापा दूसरी शादी करना चाहते हैं। इस तरह से मैंने सब रिश्तेदारों में यह बात फैला दी, कि ये शादी मैं अपनी मर्जी से बेटे के लिए कर रही हूँ।

जो बेटा उनको दूसरी औरत देगी। जबकि सच्चाई हम दोनों जानते थे।तुम्हारे पापा मुझसे मोहब्बत करते हैं। उन्होंने छह बेटियों के होते हुए भी कभी दूसरी शादी नहीं की थी। क्योंकि तुम्हारी दादी ने तुम्हारे पापा से वादा किया था कि वह कभी दूसरी शादी नहीं करेंगे। मम्मी तुम दोनों ने इतने झूठ बोले, झूट में कभी सुकून नहीं मिलता इंसान चाहे कुछ भी कर लें, अगर तुम हम बहनों में से किसी को सच बता देती है

तो हो सकता है हम कोई और बेहतर रास्ता निकाल लेती। जिससे छोटी बुआ आसानी से अपने मायके मे रहती। और हम उनका इलाज भी करवा देते। उनके बच्चो का भी ख्याल रखते।

 

ये भी पढे : आ गई मैडम गुलछरे उड़ा के,, रातभर कहाँ थी॥ 

मम्मी और पापा आप ऐसा क्यों कीये ,, आज बुआ  .. ?

मम्मी आपने तो हमे बुआ से मिलने से भी मना कर दिया। ताकि हमे पता ना चले। तुम्हारे पापा हर माह 15 दिन अपने साथ उनको दिल्ली इलाज के लिए लेकर जाते हैं, मगर उनके दिमाग पर पता नहीं किस बात का गहरा सदमा लगा हुआ की वो सब कुछ भूल चुकी है। उनकी यादाश्त खत्म हो चुकी है। मेरे दिमाग में अभी तक एक सवाल था कि मम्मी की हालत इतना खराब क्यों हो जाती है? मम्मी तुम क्यों बीमार रहती हो? तो मम्मी शर्मिंदा हो गईं?

कहने लगी मैं एक बार फिर प्रेग्नेंट हो चुकी थी, मगर लोगे के डर से लोग क्या कहेंगे कि इस उम्र में जब बेटी के बच्चा जनने की उम्र है, माँ प्रेग्नेंट हो गई है। यह बात सुनकर मेरे कदमों तले से जमीन निकल गई, लेकिन इससे पहले मैं कुछ कहती मम्मी बच्चा नुकसान करवा चुकी थी। लेकिन मम्मी पापा आपसे माफी क्यों मांग रहे थे, तो मम्मी कहने लगी की मैं ये नहीं चाहती थी की तुम्हारे पापा शर्मिंदगी के हाथों मजबूर होकर मुझसे यह काम करवाये,

जिसके लिए मैं उनको कभी माफ़ नहीं करूँगी। वो रोज़ मुझसे माफी मांगते हैं, मैंने बहुत ताने सुने है, मार खायी है कि मैं उनको बेटा न दे सकी। अगर दिया भी तो वो मर गया। मगर अब जब मैं यह खुशी उनको देना चाही, तो उन्होंने मुझसे छीन ली।

 

Ultimate Sorry Photo Gallery: 200+ Free Apology & Forgiveness Pictures - Pixabay

 

मम्मी परेशान थी, हमने उनको दिलासा दिया। मम्मी की शादी 14 साल में हो गई थी। वो हमारी माँ कम और बहन ज्यादा महसूस होती थी। हम दोनों बहनों ने मम्मी से इजाज़त लेकर बुआ की तरफ जाना चाहा। मैं मेडिकल पढ़ रही थी, मुझे मरीजों की हालत देखकर अंदाजा हो जाता था की कब तक ठीक होंगे। जब मैं बुआ की तरफ गयी तो उनको देखा तो मुझे बहुत दुख हुआ क्योंकि फूआ मुर्दा और जिन्दा एक बराबर थी। उनको जब भी होश आता था वो बचाओ बचाओ की आवाजें देती थी,

जिसे मालूम होता था कि किसी ने उन पर बहुत ज़्यादा सख्ती किया है। अभी उनके तीन बच्चे थे। पापा जवान बहन को ऐसी हालत में देखकर बहुत रोते थे। अगर वो भी मोहब्बत के हाथों मजबूर होकर घर से ना भागती तो शायद कुछ और हालात होते। मगर अब न मोहब्बत रही थी, और ना अपने वजूद की होश। मैंने उनकी तबियत के बारे में अपने सीनियर डॉक्टर से बात की जो तारीख पूरी करके प्रैक्टिस कर रहे थे। उन्होंने बुआ का इलाज करने के लिए अपने शहर बुला लिया।

500+ Healthcare Pictures [HD] | Download Free Images on Unsplash

और उनके पीछे निगरानी रखी। डॉक्टर ने हर मुमकिन सूरत में उनको बेहतर की तरफ लाने की कोशिश की थी और छह माह में काफी हद तक वो बेहतर हो चुकी थी। पापा अपने बहन को देखकर खुश हो रहे थे। खानदान में यह बात किसी को मालूम नहीं थी। अब वह चाहते थे जब तक रानी ठीक नहीं हो जाती, ये बात हम किसी को नहीं बताएंगे। मैं नहीं चाहता कि मेरी बहन की बदनामी हो या फिर लोग उस पर कलंक लगाये क्योंकि हम में से किसी को भी नहीं मालूम था कि आखिर बुआ को क्या हुआ है?

डॉक्टर ने हम सबको सख्ती से मना किया था कि कोई भी उनसे पूरानी बात करने की कोशिश नहीं करेगा, मुझे इतना मालूम हो चुका था कि बहुत भयानक था। मम्मी मामा को बता चुकी थी कि रानी वापस आ गई है। मामा ने बहुत ही बुरा भला कहा, मगर मम्मी ने उनको यह बोलकर चुप करवा दिया की तुम्हें अपनी बहन की कौन सी फिकर थी जबकि  दूसरे के बहन को बुरा भला बोल रहे हो? मैं अपनी माँ से बहुत खुश थी

कि उन्होंने कैसे अपनी ननद के लिए कुर्बानी दी थी। की उनका हर तरह से ख्याल रखा। बुआ अब ठीक हो चुकी थी। उनका अच्छा रिश्ता करके मम्मी ने उनका घर बसा दिया था। जिसके लिए सारी जिंदगी तरसती रहीं, उनको अब वो प्यार मिल चुका था। तो पाठकों अगर कहानी अच्छा लगा हैं, तो हमें folllow जरूर करे ॥  धन्यवाद दोस्तों…👋👋👋👋

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *